हरिद्वार-राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक से मिले चारधाम के तीर्थ पुरोहितों का प्रतिनिधिमंडल, देवस्थानम बोर्ड को जल्द भंग करने सम्बंधित एक ज्ञापन सौंपा मोहन भागवत को - PiyushTimes.com | Uttarkashi News

ब्रेकिंग न्यूज़

 



Monday, April 5, 2021

हरिद्वार-राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक से मिले चारधाम के तीर्थ पुरोहितों का प्रतिनिधिमंडल, देवस्थानम बोर्ड को जल्द भंग करने सम्बंधित एक ज्ञापन सौंपा मोहन भागवत को

 हरिद्वार-राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक से मिले चारधाम के तीर्थ पुरोहितों का प्रतिनिधिमंडल, देवस्थानम बोर्ड को जल्द भंग करने सम्बंधित एक ज्ञापन सौंपा मोहन भागवत को 

हरिद्वार।।।देवभूमि तीर्थ पुरोहित हकहकूकधारी महापंचायत के संयोजक सुरेश सेमवाल के नेतृत्व में सोमवार को हरिद्वार स्थित पावन कृष्ण धाम में ""राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ"" के सरसंघचालक मोहन राव भागवत से भेंट की ।इस दौरान तीर्थ पुरोहितों ने उन्हें आगामी यात्रा काल में बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री एवं यमुनोत्री आने का न्योता दिया ।तीर्थ पुरोहितों के प्रतिनिधिमंडल ने देवस्थानम बोर्ड भंग करने से संबंधित एक ज्ञापन  सरसंघचालक को प्रेषित किया ।

देवभूमि तीर्थ पुरोहित हकहकूकधारी महापंचायत के प्रवक्ता डॉ बृजेश सती ने बताया कि सोमवार को तीर्थ पुरोहितों के प्रतिनिधिमंडल ने सरसंघचालक मोहन राव भागवत से मिलकर उन्हें उत्तराखंड राज्य सरकार द्वारा बनाए गए देवस्थानम बोर्ड से संबंधित ज्ञापन प्रेषित किया । उन्होंने बताया कि देवस्थानम बोर्ड बनने के बाद तीर्थ पुरोहित एवं इन मंदिरों से जुड़े हक हकूक धारियों में खासी नाराजगी है ।डॉक्टर सती ने बताया कि संघ प्रमुख को देवस्थानम बोर्ड से होने वाली दिक्कतें एवं कमियों के बारे में भी जानकारी उपलब्ध कराई । तीर्थ  पुरोहितों पर दर्ज  मुकदमे का भी उल्लेख ज्ञापन में  किया गया है।  बदरीनाथ, केदारनाथ ,गंगोत्री व यमुनोत्री के तीर्थ पुरोहितों ने सरसंघचालक मोहन भागवत को आगामी यात्रा काल में इन धर्मों के दर्शन के लिए आमंत्रित भी किया । जिसे उन्होंने स्वीकार किया । संघ प्रमुख ने तीर्थ पुरोहितों को भरोसा दिलाया कि देवस्थानम बोर्ड से संबंधित विषय पर जल्दी ही कोई निर्णय लिया जाएगा। 


प्रतिनिधिमंडल में संयोजक सुरेश सेमवाल, सह संयोजक कृतेश्वर उनियाल, संगठन मंत्री उमेश सती ,संरक्षक अनुरूद उनियाल एवं सूरज सेमवाल भी शामिल रहे।



रिपोर्ट-हेमकान्त नौटियाल

No comments:

Post a Comment